Father Daughter Sex Story – पापा ने कल पूरी रात मुझे चोदा

hot-chudai-ki-story

Father Daughter Sex Story – पापा ने कल पूरी रात मुझे चोदा

Father Daughter Sex Story in Hindi, बाप बेटी सेक्स स्टोरी, बेटी की चुदाई, : दोस्तों आज मैं आपको अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रही हूँ। मैं www.sexstorieshindi.live की फैन हूँ। मैं रोजाना इस वेबसाइट की कहानियां पढ़ती हूँ इसलिए आज मुझे भी आपको अपनी कहानी बताने जा रही हूँ।

मेरा नाम सखी है। मैं अठारह साल की हूँ। मैं ग्रेटर नॉएडा में रहती हूँ। मैं लखनऊ की रहने वाली हूँ। मेरी माँ जो की अभी छह महीने पहले ही दूसरी शादी की है। मेरे पापा जो पहले वाले थे वो हम माँ बेटी को छोड़कर दूसरी शादी कर लिए हैं।

इसलिए माँ भी दूसरी शादी कर ली है। माँ की उम्र अभी छत्तीस साल है वो हॉट और सेक्सी महिला है। वो काफी खुले विचार की है इसलिए मुझे भी किसी चीज के लिए मना नहीं करती हैं।

दोस्तों अब बात आती है पापा की तो मैं क्या कहूं आपको मेरे पापा मेरे से बस दस साल बड़े है और मम्मी से आठ साल छोटे यानी मेरी मम्मी अपने से आठ साल छोटे लड़के से शादी की है। यानी की मम्मी भी खूब मजे ले रही है जवान लंड से और मुझे भी एक लंड मिल गया घर में ही।

मेरी माँ एयरलाइन्स में काम करती है वो घर से बाहर कई बार एक सप्ताह के लिए रहती है। पापा का यानी रमेश जी अब मैं रमेश जी ही बोलूंगी।

रमेश जी का इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का काम है। तो कई बार वो काफी दिन इंडिया से बाहर रहते है और कई बार वो घर पर ही रहते है। जब वो घर पर रहते हैं मुझे और मम्मी का बहोत ख्याल रखते हैं।

जब भी घर पर रहते हम दोनों के लिए खाना तक बनाते शॉपिंग कराते। कभी वो मम्मी को घुमाने ले जाते कभी मुझे। सच तो ये है दोस्तों मैं भी आकर्षित होने लगी थी।

कल सुबह की बात है। वो मुझे तैयार होने के लिए बोले वो मम्मी को एयरपोर्ट छोडने जाने वाले थे तो बोले सखी तुम भी तैयार हो जाओ। मम्मी और मैं दोनों तैयार हो गए वो अपनी स्कोडा कार निकाले क्यों की मम्मी को भी अपनी कार है।

मम्मी को एयरपोर्ट छोड़ दिए और फिर हम दोनों दिल्ली के एक बड़े होते में खाना खाये। तो मैं बोली क्या मस्त होटल है ना। तो वो बोले एक काम करते है। मम्मी तो सात दिन में आएगी इस होटल में कमरा लेते है एक दिन के लिए और तुम खूब एन्जॉय करना।

मैं बोली ये तो बहुत अच्छा होगा और फिर होटल में तुरंत ही चेकइन कर गए। बड़ा सा कमरा मस्त बेड था जाते ही मैं उछल कर बेड पर चढ़ गई। और मैं रमेश जी को गले लगा ली और चूम ली।

दोस्तों मैं उनके गाल पर चूमि पर होठ को चूमने लगे। मैं शांत हो गई। मैं उनको चाहती तो थी पर एक बात लगा था वो मेरे नहीं मेरी माँ के पति है। इसलिए मैं दुरी बनाती थी। पर आज ये दूरियां मिट गई थी।

मैं अपना होशो हवास खो दी। और मैं भी उनको चूमने लगी धीरे धीरे वो मेरी चूचियां दबाने लगे. वो मेरे कपडे उतारने लगे और मैं उनको चूमने लगे। हम दोनों ही नंगे हो गए।

मैं बेड पर लेट गई वो पहले मेरी चूचियों से खेलने लगे और फिर वो मेरी चूत को चाटने लगे। मैं आह आह आह की आवाज निकालने लगी। मैं अंगड़ाइयां लेने लगी। सिसकारियां निकालने लगी.

दोस्तों मेरे रोम रोम सिहर रहे थे क्यों की वो मेरी चूत चाट रहे थे। मैं खुद ही उनके छाती के बाल को सहला रही थी। वो मेरी गांड में ऊँगली डालने लगे। मैं कुछ नहीं बोली। वो अपनी ऊँगली में थूक लगाए और मेरी गांड में ऊँगली घुसा दिए।

मैं बेचने हो गई मेरी चूत गरम हो गई थी। वो मुझे छेड़े ही जा रहे थे। मैं बोली बस करो अब पापा जी। वो बोले जब हम दोनों साथ रहें तो रम मुझे मेरे नाम से ही पुकारो।

मैं बोली ठीक है मेरी जान मेरी जानू अब मुझे चोद दो। मैं प्यासी हूँ।

उन्होंने अपना लौड़ा मेरी चूत पर लगाया और जोर से तीन चार बार कोशिश करने के बाद पेल दिया। अब मुझे जन्नत दिखाने लगे। वो जोर जोर से चोदने लगे और गांड में ऊँगली करने लगे।

मैं आह आह कर रही थी। वो मेरी चूचियों को मसलते हुए चोदे जा रहे थे। कभी वो ऊपर मैं, कभी साइड से कभी ऊपर से कभी निचे से कभी खड़े होकर।

पूरी रात करीब आठ बार वो झड़े और मैं भी शांत हुई। पर दारु और विआग्रा का कमाल ने तो उन्हें घोडा बना दिया।

पूरी रात जन्नत का मजा ली हूँ दोस्तों। दूसरी कहाँ जल्द ही www.sexstorieshindi.live पर लिखने वाली हूँ।

Related posts

Leave a Comment